डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

One of the readers of My blog and on Quora asked me this question. 

डिजिटल मार्केटिंग क्या है? 

डिजिटल मार्केटिंग, वस्तुतः मार्केटिंग ही है, फर्क सिर्फ इतना है की यह परंपरागत मार्केटिंग के साधनों और तकनीक की जगह इसमें डिजिटल संसाधनों और तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है, उद्देश्य तो ग्राहकों के साथ परस्पर हित रखने वाले संवाद और आर्थिक व्यव्हार मे वृद्धि करना ही होता है। और यह बेहद प्रभावी और बेहद किफायती भी है परंपरागत मार्केटिंग की तुलना मे।

इसमें परंपरागत मार्केटिंग की तरह मूलभूत बातों प्रोडक्ट या सर्विस, प्रमोशन, प्राइस एवं प्लेस का ही ध्यान रखा जाता है, लेकिन डिजिटल मार्केटिंग परंपरागत मार्केटिंग की तुलना मे ज्यादा गहरी, व्यक्तिगत एवं ज्यादा केन्द्रित रूप से कस्टमर के साथ संवाद और व्यव्हार स्थापित करने और उसमे वृद्धि करने की सुविधा और शक्ति प्रदान करती है।

यह ज्यादा सूक्ष्म तरीके से और ज्यादा विस्तृत और व्यापक स्थान और लोगो तक प्रभावी है, वो भी परंपरागत मार्केटिंग के १/१०० व्यय और कई बार तो इससे भी ज्यादा कम खर्च मे बेहतर और प्रभावी परिणाम उपलब्ध कराती है वो भी पूरी प्रक्रिया पर पूर्ण नियत्रण की क्षमता और सुविधा के साथ जो परंपरागत मार्केटिंग मे संभव नहीं है।

इसमें पूरी प्रक्रिया मे किस भी तल पर किसी भी किस्म का परिवर्तन किया जा सकता है, यह नापा जा सकता है की कौन सी क्रिया या कैंपेन ज्यादा प्रभावी है, और क्या परिणाम उत्पन्न करने मे सक्षम है, यह आपको विभिन्न माध्यमों और तरीकों के मध्य और और उनके सामूहिक प्रभावी एवं परिणाम केन्द्रित उपयोग की सुविधा प्रदान करता है।

आप उनकी मानिटरिंग करते हुए आवश्यक बदलाव हमेशा कर सकते है, जब चाहे इसे शुरू और रोक सकते है, इसका पूरा नियत्रण आपके हाथ मे ही रहता है, बस आपको लगातार प्रयोग करके सबसे उचित और प्रभावी तरीके को जांचना और उपयोग करना होता है ताकि व्यवसाय वृद्धि एवं ग्राहक संतुष्टि के लक्ष्य को बेहतर तरीके से सदा उपलब्ध कराया जा सके, एवं मौजूदा और नए ग्राहकों से संपर्क, संवाद कायम रख, व्यवसाय मे वृद्धि की जाती रहे।

डिजिटल मार्केटिंग वर्तमान समय मे और आने वाले समय मे संपूर्ण विश्व मे समस्त छोटे, बड़े और लोकल और अंतर्राष्ट्रीय लेवल के व्यापारियों, उद्योगों, एवं संस्थानों द्वारा अपने व्यवसाय को संचालित करने एवं अपने व्यवसाय के विभिन्न पक्षकारों से संयुक रहने, संवाद एवं व्यवहार करने का सबसे शक्तिशाली और अपरिहार्य सिस्टम है।

कोई भी व्यवसाय और व्यापार, व्यक्ति और संस्थान अपने से जुड़े लोगो को प्रभावी रूप से संवाद करने, सूचनाएं प्रेषित करने, उन्हें लगातार लाभ और सुविधाएँ पहुचने और उनके साथ लम्बे समय तक रहने वाले व्यावसायिक और व्यक्तिगत सम्बन्ध नहीं बनाये रख सकता बिना डिजिटल मार्केटिंग की मदद के।

आज और आनेवाले समय मे हमारे देश मे सभी छोटे और बड़े व्यापारियों के लिए यह आवश्यक हो गया है की वो इस परम उपयोगी व्यवस्था का समुचित उपयोग अपने कार्य और व्यवसाय की वृद्धि करने एवं अपने नए और पुराने ग्राहकों से जुड़े रहने के लिए करें, वरना वो मैदान से बाहर हो जायेंगे, एवं अपने प्रतियोगियों के सम्मुख जीवित और कायम नहीं रह पाएंगे।डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग एक व्यक्ति को जो किसी खास कार्य मे माहिर है, एक व्यक्ति जो स्वयं की दुकान संचालित करने के लिए आवश्यक पूंजी से युक्त और सक्षम नहीं है को भी संपूर्ण विश्व के साथ अपने उत्पादऔर सेवाएं साझा करने के लिए सक्षम बनाती है, इसकी पहुँच सर्वव्यापी है समस्त भोगौलिक सीमाओं से परे आप अपने व्यापार और सेवाओं को लोगो तक पहुंचा सकते है।

यह पहले कभी संभव नहीं था यह पूरी तरह टेक्नोलॉजी आधारित व्यवस्था एवं उपाय है, आज इन्टरनेट ने पूरे विश्व को एक छोटे से ग्राम मे बदल दिया है, आप कभी भी कहीं भी अपने बारे मे जानकारी और सूचना विभिन्न सुचना तंत्र और ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स की मदद से भेज सकते है विभिन्न माध्यमों से बेहद न्यूनतम खर्च पर या मुफ्त मे भी।

डिजिटल मार्केटिंग इन सभी संसाधनों, सुचना तंत्र और डिजिटल प्लेटफॉर्म्स को अपने व्यवसाय और सेवाओं को लोगो तक सबसे प्रभावी तरीके से पहुचाने का सर्वाधिक उपयोगी सिस्टम है।डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग के मूल तत्त्व या प्रक्रिया के घटक –

डिजिटल मार्केटिंग एक सुनियोजित, सुसंपादित व्यवस्था है जिसमे किसी भी व्यक्ति या व्यवसाय के द्वारा प्रदाय की जाने वाली सेवाओं और उत्पादों को उनके सम्बंधित ग्राहकों तक अधिकतम लाभकारी एवं प्रभावी तरीके से संप्रेषित करने एवं उन्हें उन सेवाओं के सम्बन्ध मे समुचित जानकारी, लाभदायकता और उनसे मिलने वाले लाभों की जानकारी देकर उन्हें उन वस्तुओं और सेवाओं का उपभोग करने के लिए प्रेरित किया जाता है, उनसे व्यवसाय अर्जित किया जाता है।

उन्हें नए नए उत्पादों और सेवाओं और उनके लाभों से अवगत करते हुए उन्हें बार बार उन उत्पादों और सेवाओं के उपभोग के लिए आमंत्रित किया जाता है उनसे व्यवसाय अर्जित किया जाता है और इसे अधिकतम लम्बे समय तक किया जा सके इसका उपक्रम निरंतर किया जाता है।

ग्राहकों से लगातार संवाद किया जाता है उनसे फीडबैक लिया जाता है, उत्पाद और सेवाओं की गुणवत्ता, मूल्य और अन्य सभी आवश्यक घटकों पर ध्यान और परिवर्तन समय समय पर किया जाता है ताकि ग्राहक की रूचि उन उत्पाद और सेवाओं का उपभोग करने मे बनी रहे और इसकी आवृत्ति होती रहे।

डिजिटल मार्केटिंग आपको अपने व्यवसाय की वृद्धि के लिए अचूक एवं सार्थक रणनीतियां बनाने, आपके प्रतियोगियों की बेहतर और लाभदायक मार्केटिंग और सेल्स तकनीकों, रणनीतियों का अवलोकन करने और स्वयं की प्रभावी और परिणामोत्पदक रणनीतियों और विज्ञापनों की सुव्यवस्थित श्रृंखला तैयार करने की व्यवस्था और युक्ति प्रदान करती है।

ताकि आप सदैव अपने प्रतियोगियों से बेहतर परिणाम प्राप्त कर सके एवं बाज़ार मे अपनी पहचान और स्थान सुरक्षित कर सके, उसे सदा और सुदृढ़ और प्रभावी बना सके।डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग प्रक्रिया के घटक –

मूलतः किसी भी व्यवसाय और संस्थान द्वारा निम्न लिखित डिजिटल टूल्स एवं घटकों का इस्तेमाल अपनी डिजिटल मार्केटिंग रणनीति और उसके प्रभावी क्रियान्वयन द्वारा व्यावसायिक लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए किया जाता है, वे इस प्रकार हैं –

  • ऑनलाइन उपस्थिति (online presence) – डिजिटल मार्केटिंग के लिए सर्वप्रथम आपके व्यवसाय या संस्थान की ऑनलाइन उपस्थिति वेबसाइट, ब्लॉग, सोशल मीडिया प्रोफाइल के रूप मे अनिवार्य रूप से होना जरुरी है।

ताकि आप अपने व्यवसाय, सेवाओं , उत्पादों और उनके द्वारा आपके ग्राहकों और सम्बंधित व्यक्तियों को मिलने वाले लाभों, नियमों- शर्तों और ऑफर्स की जानकारी समय समय पर प्रदान कर सके, वो आपके साथ इंटरैक्ट कर सके, सवाल और जवाब कर सके, अपना फीडबैक दे सके, अपनी आवश्यकताएं, शिकायतें और सुझाव और प्राथमिकतायें भी आप के साथ साझा कर सके, बिना ऑनलाइन उपस्थिति के आप इस व्यवस्था का कोई भी लाभ नहीं उठा सकते क्यूंकि यह पूर्णतया टेक्नोलॉजी आधारित व्यवस्था है और इन्टरनेट इसका आधार है।

बिना ऑनलाइन उपस्थिति के आप अपने मौजूदा और संभावित ग्राहकों, व्यवसाय के विभिन्न पक्षकारों के साथ जीवंत, त्वरित एवं लाभकारी संवाद और संपर्क नहीं बनाये रख सकेंगे, यह अपरिहार्य है, यदि आप डिजिटल मार्केटिंग द्वारा उत्पन्न किये जाने वाले लाभों को प्राप्त करना चाहते है और इसे अपने सभी ग्राहकों और अन्य पक्षकारों तक पहुँचाना चाहते है तो, यह प्राथमिक एवं मूलभूत आवश्यकता है, हम आपकी इस सम्बन्ध मे मदद कर सकते है, आप हमसे info@36web.in पर संपर्क कर सकते है।डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

  • एस ईओ SEO (सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन) – ऑनलाइन उपस्थिति निर्मित करने अर्थात अपनी व्यवसाय या संस्थान की वेबसाइट, ब्लॉग और सोशल मीडिया उपस्थिति के पश्चात आपको अपनी ऑनलाइन उपस्थिति और इसकी लिंक के बारे मे सभी वर्तमान और संभावित ग्राहकों और पक्षकारों को सूचित करना आवश्यक होता है।

इसके लिए आपको अपनी वेबसाइट और उस पर प्रस्तुत एवं निर्मित पोस्ट, प्रोडक्ट्स, सर्विसेज एवं सूचनाओं को अधिकतम लोगो द्वारा सुविधापूर्ण और प्राथमिक खोज सूचि मे उपलब्ध करने हेतु SEO ट्रेंड्स और टेक्निक्स का उपयोग करना पड़ेगा ताकि आपकी सभी ऑनलाइन एसेट्स आपके उपभोक्ताओं, प्रयोगकर्ताओं और अन्य पक्षकारों के लिए दृश्य एवं उपलब्ध हो सभी सर्च engines पर।

प्रभावी SEO आपकी सभी ऑनलाइन उपस्थितियों को ज्यादा से ज्यादा और प्राथमिक खोज सूचि मे प्राथमिकता के साथ सूचीबद्ध करता है ताकि लोगो द्वारा आसनी से खोज किया जा सके और वो आपकी ऑनलाइन एसेट्स के साथ व्यव्हार और संवाद स्थापित कर सके और परस्पर लाभकारी गतिविधियाँ और व्यावसायिक व्यव्हार संचालित कर सकें।

प्रभावी SEO आयोजन आपकी ऑनलाइन एसेट्स को प्राथमिक रूप से सूचीबद्ध करके और आर्गेनिक रूप से ट्रैफिक उपलब्ध करने मे प्रभावी रूप से कार्य करता है, और आपके पेड विज्ञापनों के व्ययों मे अपेक्षित कमी करता है।

डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

  • एस ई एम SEM (सर्च इंजन मार्केटिंग) –सर्च इंजन मार्केटिंग एक बेहद प्रभावी एवं सक्षम उपाय है डिजिटल मार्केटिंग प्रक्रिया मे, यह सर्च इंजन मे आपकी ऑनलाइन एसेट्स की प्रभावी एवं वरीयता क्रम मे सूचि बद्ध करने के लिए किया जाता है ताकि विशिष्ट कीवर्ड्स के लिए आपकी साइट्स सर्च इंजन के प्रथम पृष्ठ पर अग्रणी रूप से सूचिबद्ध की जा सके और अधिक से अधिक लोगो द्वारा खोजी जा सके, ताकि वो आपकी साईट पर विजिट कर सके और आपके साथ संवाद कर सके और आपके द्वारा प्रस्तुत उत्पाद और सेवाओं की जानकारी प्राप्त कर सके और क्रय भी कर सकें।

यह सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन से भिन्न है SEO आपको आर्गेनिक रूप से आपके विसिटर्स को आप तक पहुचने मे सहयोग करता है और इसमें ट्रैफिक स्वयं से उपलब्ध होता है SEM मे आप रणनीतिक रूप से विशिष्ट कीवर्ड्स के लिए विशिष्ट ऑडियंस को टारगेट करते है पेड एड्स की मदद से, बेहतर रैंकिंग और पोजीशन के लिए सर्च इंजन पर यह सुनियोजित होता है।

इसके लिए आपको विज्ञापन स्पेस के लिए बिडिंग करनी पड़ती है, क्यूंकि आपके सभी मौजूदा और संभावित प्रतियोगी उस स्थान के लिए प्रयासरत रहेंगे, यह रणनिति प्रधान प्रक्रिया है, इसमें ऐड प्लेसमेंट, ऐड रैंकिंग, गूगल रैंकिंग आदि बहुत सारी बातों को ध्यान मे रखकर ऐड कैम्पेन निर्मित और प्रसारित करना पड़ता है, यह एक प्रभावी एवं पेड सर्च रैंकिंग व्यवस्था है।

सभी मुख्य सर्च इंजन जैसे गूगल और बिंग आपको SEM के लिए गूगल Adwords और बिंग एड्सप्लेटफार्म उपलब्ध करते है जिनके माध्यम से आप एड स्पेस के लिए बिडिंग कर एड रन कर सकते है और अपनी डिजिटल एसेट्स को रैंकिंग और पोजीशन दिलवा सकते है जिससे अधिक से अधिक लोग आपके व्यवसाय, सेवाओं और उत्पादों के बारे मे जान सके और क्रय कर सके।डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

  • एस एम एम SMM (सोशल मीडिया मार्केटिंग) – सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से तो आप सभी अच्छी तरह परिचित होंगे जैसे फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम , यूटयुब, गूगल प्लस, लिंक्ड इन, पिंटरेस्ट आदि, वो आपको, आपके व्यवसाय, सेवाओं और उत्पादों को आपके टारगेट ऑडियंस तक पहुचने मे बेहद प्रभावी और उपयोगी होते है।

आपको अपनी वेबसाईट के अलावा सभी उचित सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर अपने व्यवसाय और उत्पादों से सम्बंधित प्रोफाइल और पेज बनाना आवश्यक है साथ ही इन्हें अपनी वेबसाइट से सम्बंधित करना भी जरुरी है ताकि आपकी साईट से इन सोशल मीडिया प्लेटफोर्म और इनसे आपकी साईट तक ट्रैफिक निर्मित हो सके और आप और आपके सभी ग्राहक और व्यावसायिक पक्षकार इससे लाभान्वित हो सके।

सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म आपको अपने प्लेटफॉर्म्स से अपने व्यवसाय, उत्पादों और सेवाओं को प्रदर्शित करने, विक्रय करने व उनसे सम्बंधित विज्ञापन प्रेषित करने की सुविधा प्रदान करते है साथ ही वो आपके एड केम्पेन की सार्थकता, परिणाम और उत्पादकता को मापने के लिए जरुरी सुचना और आंकड़े उपलब्ध करते है अपने इंटरनल एनालिटिक्स की मदद से, आप जाँच सकते है प्रयोग कर सकते है की कौन सा ऐड ज्यादा प्रभावी और उत्पादक है।

यह सर्वाधिक लोकप्रिय एवं मूल्य व् गुणवत्ता प्रदान करने वाली व्यवस्था है, आप सभी को अपने व्यवसाय, प्रोडक्ट और सेवाओं के प्रचार के लिए और अधिक से अधिक जागरूकता फ़ैलाने और व्यवसाय व बिक्री बढ़ाने के लिए इनका उपयोग करना चाहिए।

सोशल मीडिया प्लेटफार्म सबसे ज्यादा व्यापक और प्रभावी माध्यम है विज्ञापन और व्यवसाय की पहुँच और विक्रय मे वृद्धि करने का, लेकिन इसके लिए विशिष्ट ज्ञान, कुशलता रणनीति और ऐड केम्पेन तैयार करने और सही ऑडियंस चुनने के लिए प्रयुक्त करनी जरुरी है वरना अपेक्षित लाभ नहीं मिलेगा। फेसबुक पर २ अरब लोग मौजूद है, आप इससे अंदाज़ा लगा सकते हैं इन प्लेटफार्म की सम्प्रेषण क्षमता का, यह बेहद प्रbhavi और उत्पादक है।डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

  • यूजर इंटरफ़ेस डिजाईन (UX डिजाईन) – यह एक बेहद महत्पूर्ण घटक है जिसके सम्बन्ध मे सभी व्यवसाइयों और डिजिटल मार्केटिंग एक्सपर्ट्स को ध्यान देना चाहिए, अन्यथा आप जो भी प्रयास अपनी वेबसाइट तक कस्टमर्स का ट्रैफिक ले जाने के लिए कर रहे है, वो प्रभावी और उत्पादक नहीं सिद्द होगा।

यदि आपकी वेबसाइट और डिजिटल एसेट्स, की डिजाइनिंग आकर्षक, सूचनाप्रधान एवं आसानी से विभिन्न सुविधाओं और प्रभागों तक पहुचने और उपयोग करने योग्य होना चाहिए, यदि आपकी वेबसाइट यूजर फ्रेंडली डिजाईन से युक्त नहीं होगी तो आपकी सारी कोशिशो और कीमती प्रयासों के बावजूद ग्राहक आपकी साईट से विमुख होंगे और बिना कोई व्यव्हार और गतिविधि और संवाद किये आपकी साईट से विमुख हो जायेंगे।

अतः आपकी साईट को फ्रेंडली इंटरफ़ेस और डिजाईन से युक्त होना परम आवश्यक है, ताकि आपके ग्राहक और विसिटर्स को आसानी से आपके उत्पादों, सेवाओं और व्यवसाय के बारे मे सारी आवश्यक जानकारी और व्यव्हार करने की सुविधा प्राप्त हो।

इसके अंतर्गत वेबसाइट का फ़ास्ट लोडिंग होना, और मोबाइल फ्रेंडली या रिसपोंसिव होना परम आवश्यक है, यह भी यूजर इंटरफ़ेस डिजाईन के अंतर्गत आनेवाला सर्वाधिक महत्वपूर्ण तत्व है, इसके अभाव मे भी ग्राहक और विसिटर्स आपकी साईट पर रुकने और व्यव्हार करने से विमुख होंगे जो बेहद नुकसानदायक बात है, क्यूंकि आपका और आपके ग्राहकों को लाभ आपकी वेबसाइट के उपयोग से ही मिल सकेंगे।

अधिक लोडिंग टाइम और मोबाइल फ्रेंडली साईट नहीं होने पर आपको सर्च इंजन पर हाई रैंक और पोजीशन भी नहीं मिल सकेगी क्यूंकि सर्च इंजन आपकी एसेट्स को इसके अयोग्य पाएंगे, अतः इसे सर्वाधिक महत्वपूर्ण घटक समझ कर अपनी साईट को इस त्रुटि से मुक्त रखना होगा, तभी आपको इच्छित लाभ मिल सकेंगे।डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

  • ईमेल मार्केटिंग – यह डिजिटल मार्केटिंग प्रक्रिया का सर्वाधिक प्रभावी और सबसे शक्तिशाली घटक है, सभी ऑनलाइन मार्केटिंग एक्सपर्ट, ब्लॉगर एवं व्यावसायिक संस्थान इसे एक दशक से अधिक समय से इस्तेमाल कर रहे है और आज भी यह सर्वाधिक उत्पादक एवं परिणाम देनवाला डिजिटल टूल है।

डिजिटल मार्केटिंग इनबाउंड मार्केटिंग के अंतर्गत आता है इसमें व्यक्तिगत संवाद किया जाता है टार्गेटेड ऑडियंस के साथ उनकी स्वीकृति और पसंद के अनुरूप, और उन्हें इस बात की सुविधा दी जाती है की उन तक पहुचने वाली सभी मेल कभी भी उन तक आना बंद की जा सकती है।

सभी बिज़नस संस्थान अपने वर्तमान और संभावित ग्राहकों को अपने उत्पादों की जानकारी प्रदान करने, उन्हें आवश्यक सूचना, ऑफर और अन्य व्यावसायिक सम्प्रेषण के लिए ईमेल को सबसे विश्वसनीय और प्रभावी उपकरण की तरह सम्मान और प्राथमिकता प्राप्त है।

यह बेहद सुविधाजनक एवं बार बार संपर्क करने फीडबैक लेने, ग्राहक और उपभोक्ता को बेहतर तरीके से समझने और उनकी आवश्यकताओं और बजट के अनुरूप सेवाएं और उत्पाद उपलब्ध करने, उनकी शंकाओं और समस्याओं का समाधान करने , उन्हें नियमित रूप से नए उत्पादों, ऑफर और अन्य लाभों की जानकारी देने और बेहतर संबन्ध बनाये रखने मे बेहद मददगार है।

आप इसे इस तरह से समझ सकते है की विश्व के सर्वाधिक सफल डिजिटल मार्केटिंग एक्सपर्ट, ऑनलाइन स्टोर्स, ऑनलाइन उद्यमियों की सफलता का मुख्य श्रेय उनकी ईमेल लिस्ट को जाता है जो उन्होंने कई वर्षों के संपर्क और संवाद से निर्मित की है, यह अपने उपभोक्ताओं, और ग्राहकों से विश्वशनीय सम्बन्ध बनाने का और व्यक्तिगत संपर्क करने का सर्वाधिक प्रभावी और परिणाम प्रस्तुत करनेवाला सबसे लाभदायी और सफल उपकरण है।डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

इस प्रकार आप देख सकते हैं की डिजिटल मार्केटिंग विभिन्न ऑनलाइन टेक्निक्स और प्लेटफॉर्म्स और टूल्स के द्वारा अपने व्यवसाय और ग्राहकों, के मध्य ज्यादा पारदर्शी, व्यक्तिगत और परस्पर लाभकारी सम्बन्ध बनाए रखने की बेहद सुनियोजित और प्रभावी व्यवस्था है।

इन ऊपर वर्णित उपकरणों के अलावा और भी अनेक अंदरूनी बातें और उपकरण है जो आप को डिजिटल मार्केटिंग को प्रभावी और परिणामोत्पादक रूप से उपयोग करने के लिए आवश्यक है जो इस प्रकार है –

  1. गूगल और सोशल मीडिया एनालिटिक्स की समझ और उसका वास्तविक सही उपयोग।
  2. थर्ड पार्टी मार्केटिंग एंड रिसर्च टूल्स जैसे SEMRUSH, मोज आदि के उपयोग का ज्ञान, प्रतियोगी विश्लेषण और रैंकिंग फैक्टर्स को जानने समझने के लिए ।
  3. कीवर्ड प्लानर के उपयोग की समझ और जानकारी बेहतर ट्रैफिक और एक्सपोज़र के लिए।

डिजिटल मार्केटिंग एक विस्तृत एवं सदा विकसित होनेवाला क्षेत्र है इसमें सदा नयी नयी तकनीक और तरीके विकसित किये जाते रहते है आपको सदैव मार्किट और टेक्नोलॉजी ट्रेंड्स और नए विकास को जानने और उसका उपयोग अपने कार्य मे करने और उससे उत्पन्न होने वाले सकारात्मक और नकारात्मक प्रभावों को निरिक्षण करते रहना होगा।

मार्केटिंग एक तरल विषय है इसमें परिवर्तन होते रहता है उसके अनुरूप हमे अपनी रणनीति बनानीऔर उपयोग करनी चाहिए अधिकतम उत्पादकता और प्रभावशीलता उत्पन्न करने के लिए, धन्यवाद।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.